Monday , 25 March 2019

“त्रिवेन्द्र सरकार के लिए प्रकाश पन्त बने सुरक्षा कवच”

Home / Headlines / “त्रिवेन्द्र सरकार के लिए प्रकाश पन्त बने सुरक्षा कवच”

WhatsApp Image 2019-02-25 at 1.04.44 PM

विगत दिनों में त्रिवेन्द्र सरकार को कई मसलों पर सियासी दावों का सामना करना पड़ा है, जिसका असर सदन पर भी देखने को मिला। एक ओर जहां विपक्ष इन सभी मसलों को काफी अहमियत देता नजर आया, वहीँ संसदीय कार्यमंत्री प्रकाश पन्त जैसे पहली ही इन सभी दांव पेंच के लिए तैयार थे। उनकी प्रत्येक विषय पर सहजता व वाक्पटुता ने विपक्ष के दांत खट्टे कर दिए और उन्हें सदन से वॉक आउट करने पर विवश कर दिया। यह पहली बार नहीं कि प्रकाश पन्त द्वारा सदन में इस तरह त्रिवेन्द्र सरकार का पक्ष रखा गया व विपक्ष मूक दर्शक बना रहा। अपनी कार्य प्रणाली के लिए प्रसिद्ध व सभी विभागों की अच्छी खासी समझ का इस्तेमाल प्रकाश पन्त समय समय पर करते आए हैं। जिस किसी भी मसले पर त्रिवेन्द्र सरकार सदन में असहज हो सकती थी, प्रकाश पन्त जी ने अपनी सूझ-बूझ और समझ का इस्तेमाल कर उसी मसले को विपक्ष के विरुद्ध कर दिया।
त्रिवेन्द्र सरकार के लिए अक्सर से ही सुरक्षा कवच की भूमिका निभाते प्रकाश पन्त ने न केवल त्रिवेन्द्र सरकार बल्कि खुद सीएम व उनके करीबियों पर हुए स्टिंग पर उठते सवालों का भी सामना किया। सदन के दौरान उठे इन सवालों को उन्होंने विपक्ष का सियासी स्टंट कहते हुए अपने कौशल से जब इस पूरे मसले को पेश किया तो विपक्ष के पास चुप्पी साधने के अलावा और कोई चारा ही नहीं बचा। हाल ही में हुए जहरीली शराब काण्ड में जब सरकार पर सवाल उठे तब भी प्रकाश पन्त ने बिना किसी बीच बचाव के अपना मत इतनी मजबूती व सहजता से रखा कि विधानसभा अध्यक्ष ने इन मसलों पर एक समिति बना कर जांच के आदेश दे दिए व पूरा मामला ठंडा पड़ गया। केवल यही नहीं, असल विजय तब हुई जब बिना किसी व्यवधान के अपनी सियासी समझदारी से बतौर वित्त मंत्री प्रकाश पन्त ने उत्तराखंड विधान सभा में पूरा बजट पास करा लिया। यह विपक्ष की आधी अधूरी तैयारी व प्रकाश पन्त की पूर्ण तैयारी व समझदारी से ही संभव हो पाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *